औचित्य


  • ज़ेड का नेतृत्व करने के लिए तालमेल के साथ लोगों, मशीनों, सिस्टम और प्रक्रियाओं की एक पारिस्थितिकी तंत्र का निर्माण करना|
  • Make-in-India के 25 क्षेत्रों के लिए महत्वपूर्ण धुरी साबित होना|
  • एक देश, एक क्षेत्र, एक व्यवसाय और एक व्यक्ति के परिप्रेक्ष्य में प्रतिस्पर्धा की धारणा की जांच करना|
  • रोजगार का सृजन करना और रोजगार के अवसरों को बढ़ाना|
  • पूरी तरह से पर्यावरण संरक्षण के साथ उत्पादकता और गुणवत्ता में सुधार के लिए निष्क्रिय क्षमताओं का फिर से अध्ययन करना|
  • आर्थिक विकास के लिए, कम से मध्यम अवधि में, देश की क्षमता का सूचक बनना|
  • ज़ेड मार्क: MSME के लिए एक विश्वसनीय मान्यता और विदेशी निवेशकों के लिए एक गुणवत्ता सूचक होना|
  • जागरूक बनाना, मूल्यांकन, रेटिंग, सलाह, मार्गदर्शन, पुनर्मूल्यांकन (re-assess) और सभी MSMEs को प्रमाणित करना तथा ज़ेड चरण (ladder) में उनका विकास सुनिश्चित करना| इस प्रकार उनकी वैश्विक बाजार में प्रतियोगिता क्षमता को बढ़ाना तथा उन्हें "Make In India" अभियान में एक महत्वपूर्ण कड़ी बनाना|